Wednesday, October 07, 2009

छोटा सा प्रयास १




*************************************

धृतराष्ट्र उवाच -


धर्मक्षेत्रे कुरुक्षेत्रे समवेता युयुत्सवः।
मामकाः पाण्डवाश्चैव किमकुर्वत सञ्ञय॥
********************************************


और आज से एक नया प्रयोग,
मुझसे श्रीमद्भगवतगीता क्या कहती है-
(धृतराष्ट्र ने पूछा)


क्या कर्म किया?
कुरु-वंश पुत्रों ने,
कुरुभूमि में!
(कुरु= कौरव-पांडवों के पूर्वज ’कुरु’ कहलाते थे।)
(क्रमशः)

3 comments:

Pankaj Mishra said...

मेरे लिए तो आप का काम प्रशंशीय है धन्यवाद

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ said...

प्रयास सही नियत से हो यही मायने रहता है। शुभकामनाएं स्वीकारें।
----------
बोटी-बोटी जिस्म नुचवाना कैसा लगता होगा?

पं.डी.के.शर्मा"वत्स" said...

ये कोई छोटा नहीं अपितु बहुत बडा प्रयास है!!
शुभकामनाऎँ!!!

ट्रैफ़िक