Friday, August 04, 2006

साहस

तूफानों का साथ,
गहरी काली रात,
निर्भीक-शांत मन,
पहुँचने का प्रण,
यही है अभीष्ट अब,
मंजिल मिलेगी कब?

2 comments:

RC Mishra said...

प्रेमलता जी सादर प्रणाम।
***********************************At गुरुवार, जुलाई १३, २००६ १२:०६:३६ अपराह्न, MAN KI BAAT said...
गीता जी के अनुसार 'युद्ध किससे है, कितना बूता है' यह जानकर ही अग्रेषित होना चाहिए।
-प्रेमलता पांडे
***********************************
उपर्युक्त टिप्पणी से आपका आशय मै नही समझ सका, कृपया स्पष्ट करें।
आपका ई मेल पता उपलब्ध न होने के कारण यह अवांछित टिप्पणी करनी पड़ रही है।
धन्यवाद।

MAN KI BAAT said...

मिश्र जी अपना उत्तर उसी श्लोक की टिप्पणी में लिख रही हूँ।
-प्रेमलता

ट्रैफ़िक